बेल के फायदे, उपयोग और नुकसान | Benefits, Uses And Side-Effects Of Wood Apple In Hindi

स्वाद से भरपूर बेल का शरबत तो आप सभी ने पीया होगा, पर क्या आप जानते हैं कि नियमित बेल के सेवन के कई फायदे होते है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए अति लाभकारी होता है। गर्मियों में मिलने वाला बेल को खाया भी जाता है और इसका जूस बना कर पिया भी जाता है, हालांकि अधिकतर लोगों को इसका शरबत ज्यादा पसन्द आता है। 

बेल सबका चहीता होता है जो स्वादिष्ट होने के साथ साथ गुणकारी भी होता है। इसमें स्वाद और सेहत दोनों का भरपूर मिश्रण होता है। इसके सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती है , ठण्डक मिलती है एवं शुगर की मात्रा शरीर में पहुँचती है। इसके और भी बहुत ढेर सारे फायदे होते है और कुछ नुकसान भी है जिसे आज हम इस आर्टिकल मे विस्तार से जानेंगे और ये भी जानेंगे की इसका उपयोग कैसे किया जाता है। तो इन सभी बातों की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े। तो चलिए शुरू करते है। –


बेल के फायदे –

बेल के फायदे

1) आँखों का रखता है ख्याल :

आँखे शरीर का अहम अंग होती है जिसके जरिये हम इस खूबसूरत दुनिया को देख पाते है और इसका अच्छे से ख्याल रखना बहुत ज़रूरी है। इसलिए इसके लिए कुछ ऐसे फल एवं सब्ज़ियां है जिन्हे खाकर हम आँखों की रोशनी को बरकरार रख सकते है। 

उनमें से बेल को भी शामिल किया गया है। बेल में विटामिन-ए की मात्रा होती है और विटामिन-ए आँखों की रोशनी के लिए बहुत अच्छा माना गया है। बेल के रस का नियमित सेवन से आँखों का स्वास्थ्य अच्छा रहता है एवं अगर किसी को आँखों मे कुछ परेशानी है तो उसके लिए बेल बहुत असरदार हो सकता है।

2) बवासीर के मरीज के लिए उपयोगी :

अगर आप बवासीर की बीमारी से जूझ रहे है तो आप बेल को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते है, ये एक औषधि की तरह काम करता है। बवासीर की स्थिति में रोगी को नसों में बहुत दर्द होता है और उस स्थान पर सुजन भी आ जाती है तो ऐसे में अगर आप बेल का सेवन करते हैं तो इसका अच्छा असर आपको देखने को मिलेगा। इसका सेवन नसों के दर्द एवं सूजन को कम करने में मदद करता है। 

3) एनिमिया होने पर :

एनिमिया होने का मुख्य कारण शरीर में आयरन की कमी है, एनिमिया होने की स्थिति में खून में रेड ब्लड सेल्स की मात्रा कम हो जाती है। और बेल आय रन की कमी को पूरा करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है इसके रोजाना प्रयोग से आप एनिमिया से जल्द से जल्द निजात पा सकते हैं। बेल के गुद्दे को खाना एनिमिया रोगी के लिए ज्यादा फायदेमंद है। 

4) हृदय को स्वस्थ रखता है। :

हृदय के रोगी के लिए बेल एक बहुत उपयोगी फल है, और अगर आप हृदय को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो इस फल का सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन से आप हृदय को कई रोगों से बचा सकते क्योंकि बेल कार्डियोप्रोटेक्टिव का एक अच्छा स्त्रोत है। इस प्रकार कहा जा सकता है की हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में बेल का महत्वपूर्ण योगदान होता है। 

5) टीबी के रोगी के लिए :

बेल मे एंटी-माइक्रोबियल क्रिया पाई जाती है जो टीबी के मरीजों के लिए बहुत लाभकारी होती है। तो अगर आप टीबी के मरीज है तो आपको बेल का सेवन ज़रूर करना चाहिए इससे आपके जल्दी ठीक होने की संभावना बढ़ जाती है और इसके कोई साइड इफेक्ट भी नही है क्योंकि ये एक प्राकृतिक फल है। इसे आप या तो जूस के रूप में ले सकते हैं या फिर इसके गुद्दे को खा सकते हैं। 

6) बाल टूटने की समस्या से दिलाता है निजात :

आज को तो बाल झड़ने की समस्या बहुत समान्य हो गई है, बड़ी संख्या में लोग इस समस्या से परेशान हैं और इससे निजात पाने के लिए बहुत से केमिकल युक्त प्रोडक्ट का भी इस्तेमाल करते है। लेकिन प्राकृतिक तत्वों की बात ही कुछ और होती है।

ऐसे ही प्राकृतिक तत्व में बेल भी शामिल है। और बेल बालों को टूटने से बचाता है, बाल गिरने का एक मुख्य कारण शरीर में आयरन की कमी को माना गया है और बेल मे प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता है। 

7) विटिलिगो (Vitiligo) होने पर :

आप सभी ने विटिलिगो के बारे में तो सुना ही होगा कभी कभी हमारी त्वचा के कुछ हिस्से ऐसी स्थिति में आ जाते हैं जब त्वचा अपना रंग खो देती है और इसी को विटिलिगो कहा जाता है। आजकल कई लोगों को इस समस्या ने परेशान किया है, और जो व्यक्ति इस बीमारी से पीड़ित है उसके लिए बेल का शरबत एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

8) सिरदर्द से राहत :

हमारी रोजमर्रा के जीवन मे सिरदर्द एक ऐसी समस्या है जो कभी भी किसी के साथ हो सकती है। सिर दर्द एक बिन बुलाये मेहमान की तरह होता है। इसलिए अगर आप अपने मस्तिष्क को स्वस्थ रखना चाहते हैं और सिर दर्द से राहत पाना चाहते है तो बेल का सेवन आपको अवश्य करना चाहिए है। 

9) त्वचा के लिए उपयोगी :

एक रिसर्च मे पता चलता है की बेल का रस त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। रेसेश् या स्किन इंफेक्शन होने की स्थिति में आप त्वचा के उन हिस्सों पर इसे लगा सकते हैं जहाँ आपको इस तरह की समस्या है। इस प्रकार कहा जा सकता है की एक स्वस्थ व अच्छी त्वचा का राज बेल के रस में छुपा है। 

10) पीलिया में फायदेमंद :

पीलिया के इलाज मे बेल का सेवन बहुत उपयोगी होता है, इस में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व पीलिया के मरीज़ के लिए औपचारिक होते है। पीलिया होने की स्थिति में शरीर शिथिल पड़ जाता है एवं आँखें नाखून व रंग हल्का पीला भी पड़ जाता है और लिवर मे सूजन भी आ जाती है पर ऐसी स्थिति में अगर बेल को अपने आहार में शामिल किया जाय तो आप इस रोग से जल्द निजात पा सकते हैं। 

12) रूसी का जड़ से करे खात्मा :

आज के इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में रूसी की समस्या बहुत ही आम है जो किसी भी व्यक्ति हो सकती है। इससे बचने के लिए बेल के शरबत या इसके गुद्दे का का सेवन किया जा सकता है। बेल में जिंक की मात्रा पाई जाती है और जिंक जैसे तत्वों से रूसी की समस्या दूर हो सकती है। 


बेल के उपयोग :

बेल के उपयोग

बेल एक उपयोगी फल है और बेल के औषधीय उपयोग भी हैं। इसे कुछ इस प्रकार से इस्तेमाल किया जा सकता है। –

  1. बेल का सबसे अच्छा उपयोग इसका शरबत बनाकर किया जा सकता है और अधिकांश लोग इसे जूस के रूप में ही पीना पसन्द करते हैं। 
  2. बेल के गुद्दे जब भीतर से पक जाते हैं तो एक स्वादिष्ट फल की भाँति लगते हैं, आप इसके गुद्दे का सेवन कर सकते हैं
  3. गर्मियों का मौसम आते ही लोग ज्यादतर ठण्डी ठण्डी चीज़े खाना और पीना पसन्द करते हैं ऐसे में बेल का सेवन शरीर को राहत व ठण्डक देने मे बहुत उपयोगी होता है। 
  4. बेल को उपयोग में लाने का एक बहुत अच्छा तरीका इसका मुरब्बा बनाना हो सकता है, मुरब्बा बनाकर आप इसे एक डब्बे में सुरक्षित रख सकते हैं और कई दिनों तक खा सकते हैं, मुरब्बे का स्वाद भी बहुत लज़ीज़ होता है और स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। 
  5. क्योंकि बेल बहुत ठंडा होता है इसलिए रात के वक़्त इसका उपयोग करने से आपको बचना चाहिए, आप दिन में या दोपहर में इसका सेवन करें ये ज्यादा फायदेमंद रहेगा। 
  6. बेल को खाते समय आपको एक बार में 100 ग्राम तक बेल का इस्तेमाल करना चाहिए। 
  7. बेल पाउडर के फायदे: बेल चूर्ण का प्रयोग पेट को ठंडा रखने के लिए भी किया जाता है और इसके नियमित प्रयोग से पेट सम्बंधित बहुत सारे शिकायतों से मुक्ति मिल जाती है।

बेल के नुकसान :

बेल के नुकसान

अब तक आपने बेल के तमाम फायदों एवं इसके उपयोग के तरीकों को अच्छे से जाना और समझा। मगर अब हम आपको बेल के कुछ नुकसानों के बारे में भी बताने जा रहे हैं जो कुछ इस प्रकार है। –

  1. क्योंकि बेल का स्वाद मिठा होता है इसलिए इसमें सुगर की मात्रा ज्यादा पाई जाती है, और इसके ज्यादा सेवन से आपको डाइबिटीज जैसी समस्या हो सकती है। और अगर आप डाईबटिज़ के रोगी हैं तो आपको इसे अपने खाने में शामिल नही करना चाहिए और इसका जूस पीने से भी बचना चाहिए। 
  2. बेल का अधिक सेवन हाई ब्लड प्रेशर का भी कारण बन सकता है इसलिए बीपी के मरीजों को इससे बचना चाहिये और अगर वो इसका सेवन कर भी रहे है तो ध्यान रहे की एक सीमित मात्रा में करें। 
  3. बेल के पत्तों का सेवन भूलकर भी नही करना चाहिए क्योंकि ये स्वास्थ्य के लिए नुक्सानदेह होता है।  
  4. बेल के गुद्दे को खाने या इसका शरबत पीने से पूर्व हमेशा इसके बीज को निकाल देना चाहिये क्योंकि ऐसा न करने से ये आपके गले में फस सकते हैं जिससे आपको दिक्कत हो सकती है एवं इसके बीज स्वाद को भी कम कर देते हैं क्योंकि जे कड़वे होते हैं। 
  5. बेल के शरबत का स्वाद बहुत अच्छा होता है लेकिन इसका अधिक सेवन भी अच्छा नही माना जाता है, इसलिए इसे सीमित मात्रा में ही ले। 
  6. किडनी के मरीजों के लिए बेल नुकसानदेह हो सकता है क्योंकि बेल में फास्फोरस की मात्रा पाई जाती है और फास्फोरस किडनी के मरीजों के लिए हानिकारक माना जाता है। 

निष्कर्ष :-

बेल का सेवन तो आप सभी ने किया होगा और हो सकता है ये आपको बेहद पसन्द भी होगा पर आज आपने हमारे आज के इस आर्टिकल के माध्यम से बेल से होने वाले फायदे, ये स्वास्थ्य के लिए कैसे उपयोगी है एवं इसके नुकसान का बारे में विस्तार पूर्वक जाना है। हम आशा करते हैं की हमारा आज का ये आर्टिकल आपके लिए बहुत ही लाभकारी होगा और आपको ये बेहद पसन्द आया होगा। इस प्रकार के अन्य आर्टिकल को पढ़ने के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ।

1 thought on “बेल के फायदे, उपयोग और नुकसान | Benefits, Uses And Side-Effects Of Wood Apple In Hindi”

  1. I wonder, would you like to share me how much cost will needed to explore all those places, including the
    affordable accommodation ? It would be very helpful for me to estimate my cost there.

    Reply

Leave a Comment