देशी घी में छुपा है स्वाद एवं सेहत का खज़ाना, जानिए इसके फायदे, उपयोग एवं नुकसान

किसी भी खाध पदार्थ में देशी घी स्वाद बढ़ाने का कार्य करता है, पर क्या देशी घी सिर्फ स्वाद तक सीमित है? बिल्कुल नही, भोजन को स्वादिष्ट बनाने के साथ साथ देशी घी के अनगिनत फायदे होते हैं। देशी घी में कैलोरी, ऊर्जा, वसा, विटामिन ए, फैटी एसिड, कुल सैचुरेटेड, फैटी एसिड, कुल पोलीअनसैचुरेट एवं कोलेस्ट्रॉल जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत के लिए बहुत लाभकारी है और साथ ही इसके रोजाना सेवन से त्वचा की चमक भी बरकरार रहती है और त्वचा रुई की तरह कोमल हो जाती है। 

तो अगर आपने अपने आहार में घी को शामिल किया है तो ये बहुत अच्छा है और अगर नही तो अब भी देर नही हुई है। आप अभी भी तमाम खाद पधार्थों में घी को मिला सकते हैं और भरपूर स्वाद का आंनद ले सकते हैं। घी किसी भी व्यजन को लज़ीज़ बना देता है और इसकी खुशबू तो लाजवाब होती है। 

जब घी को भोजन में मिलाया जाता है तो रसोई से उठती इसकी खुशबू पूरे घर तक पहुँच जाती है और मात्र इसकी खुशबू से ये पता लग जाता है की आज घर में कुछ लज़ीज़ पकवान बन रहा है। पर ज्यादा घी का सेवन भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है इसलिए इसे सीमित मात्रा में खाये। आज हम इस आर्टिकल में घी से होने वाले फायदे, उपयोगी एवं नुकसान के बारे विस्तार से जानेंगे। तो चलिए शुरू करते है। –

देशी घी के फायदे :

देशी घी खाने के निम्नलिखित फायदे है। –

1) अच्छे पाचन क्रिया के लिए –

अक्सर आपने बड़े बुजुर्गों या माँओं को ये कहते ज़रूर सुना होगा की बाहर का तला भुना खाना मत खाना क्योंकि ये सेहत के लिए नुकसानदेह है। बाहर के बने खाध पदार्थों में तेल या डालडा घी का प्रयोग किया जाता है और ये दोनों चीज़े स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालती  है। 

जिसका सीधा असर हमारे पाचन तंत्र पर पड़ता है और फिर हमे उल्टी एवं अपच जैसी समस्याएं होने लगती है क्योंकि खाना सही से पचता नही है। लेकिन जब हम गाय के बने शुद्ध देशी घी से बने भोजन का सेवन करते हैं तो हमारा पाचन तंत्र बहुत अच्छा रहता है। देशी घी अच्छे स्वास्थ्य एवं पाचन किया के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। 

2) हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है। –

आपने अक्सर देखा होगा की जो उम्रदराज लोग होते हैं उनकी हड्डिया काफी मजबूत होती है, वजह है पहले ज़माने का अच्छा खान पान एवं गाय के दूध से निर्मित शुद्ध देशी घी। जी हाँ, घी खाने से सेहत तो अच्छी रहती है, साथ ही इसका असर आपकी हड्डियों पर होता है। 

जब आप अपने रोजाना के आहार में घी से बने भोजन का सेवन करते हैं तो आपकी हड्डिया बहुत मजबूत हो जाती है। देशी घी अच्छे स्वास्थ्य एवं पाचन किया के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। कमज़ोर हड्डियों का मुख्य कारण शरीर में विटामिन के की कमी को माना गया है और भैस के दूध से बना घी विटामिन के से भरपूर होता है, इसलिए जब आप भोजन मे देशी घी को मिलाते हैं तो इसमें विटामिन के भी पहुँचता है। 

3) स्मृति बढ़ाने में कारगर –

देशी घी एक आयुर्वेदिक औषधि की तरह कार्य करता है, जिसका सेवन यदि नियमित रूप से किया जाय तो ऐसे ही बहुत सारी बिमारियाँ हमसे कोषों दूर रहेंगी। आयुर्वेद के अनुसार घी को स्मरण शक्ति बढ़ाने मे बहुत कारगर माना जाता है। एक स्वस्थ मस्तिष्क निर्माण के लिए घी बहुत फायदेमंद हो सकता है। तो अगर आप अपनी यादाश्त को बढ़ाना चाहते है तो आपको घी का सेवन ज़रूर करना चाहिए। 

4) हृदय स्वास्थ्य के लिए उपयोगी –

हृदय स्वास्थ्य ठीक न रहने का मुख्य कारण अधिक कोलेस्ट्राल को माना जाता है, और कोलेस्ट्राल को कम करने में देशी घी को बहुत उपयोगी माना गया है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) द्वारा प्रकाशित वैज्ञानिक रिसर्च में ये पता चला है की घी कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण करने में बहुत कारगर होता है। 

तो अगर आप हृदय के मरीज है तो आपके लिए भोजन में मिला देशी घी एक दवा के समान है। और अगर आप  चाहते हैं की भविष्य में आपका हृदय स्वस्थ रहे और आप हृदय के रोग से बचे रहे तो तो भी आप अपने आहार में घी को सम्मलित कर सकते हैं। 

5) वजन कम करने में मददगार –

वजन कम करने वाली बात को लेकर आप हैरत में हो सकते है की क्या सच में देशी घी खाने से वजन कम होता है? 

दरसल, एक रिसर्च के अनुसार मे ये बात सामने आई है की ऑक्सीडाइज घी में सैचुरेटेड फैटी एसिड और ओलिक एसिड की मात्रा पाई जाती है और ये दोनों ही आपके शरीर को फिट रखने में सहायक होते हैं और जिनका वजन ज्यादा हो उन्हे हटाते है एवं वजन को बढ़ने से रोकते हैं। डाक्टरों के अनुसार घी को भोजन में मिलाने से ग्लाइसेमिक इंडेक्स को कम होता है। 

6) आँखों की रोशनी के लिए घी है फायदेमंद –

आँखों की अच्छी रोशनी के लिए विटामिन ए की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, और घी में विटामिन ए शामिल होता है। तो अगर आप अपनी आँखों को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो घी का इस्तेमाल अपने दैनिक जिवन के भोजन में कर सकते है। ये आप की आँखों के लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। 

देशी घी के उपयोग :

देशी घी स्वाद और सेहत का मिश्रण होती है जिसे अलग अलग पकवानों में भी इस्तेमाल किया जाता है और रोजाना के भोजन में भी इसका प्रयोग किया जाता है। घी को उपयोग में लाने के तरीके निम्नलिखित हैं जो हम आपको इस लेख के माध्यम से बता रहे हैं। –

  1. तड़का लगाने में मुख्य रूप से घी का उपयोग किया जाता है, और बहुत से घरों में रोजाना देशी घी से डाल में तड़का लगाया जाता है। ये खाने के स्वाद को बढ़ा देता है और इसकी खुशबू व्यक्ति को खाने की ओर आकृषित करती है। 
  2. खाने की चीजों में तेल या रिफ़ाइंड के स्थान पर देशी घी को उपयोग में लाया जा सकता है, अन्य तेलों की तुलना में देशी घी ज्यादा फायदेमंद होता है
  3. किसी भी खाध पदार्थ का जायका बढ़ाने के लिए घी का उपयोग किया जाता है क्योंकि इसकी खुशबू ही खाने में चार चाँद लगा देती है
  4. पानी, काली मिर्च, चीनी और अदरक की चाय में घी को मिलाकर पीने से खांसी और गले की समस्याओं से निजात मिलता है
  5. पकवानों को लज़ीज़ बनाने के लिए देशी घी का उपयोग करना चाहिए। 
  6. प्याज, मटर, लहसून, मिर्च एवं अदरक जैसी सब्ज़ियों को भूनने के लिए देशी घी का उपयोग कर सकते हैं। 
  7. देशी घी का इस्तेमाल कई जड़ी बूटियों में भी किया जाता है जो इसके मिश्रण से औषधि के रूप में बन जाती है, फिर ये मर्ज़ की दवा की तरह काम करती है। 
  8. नान, रोटी एवं पराठे में मुख्य रूप से देशी घी का ही उपयोग किया जाता है। , ये स्वास्थ्य के लिए भी बढ़िया होता है एवं स्वाद में भी वृद्धि हो जाती है। 
  9. कई मिष्ठानों एवं विभिन्न प्रकार के हलवे में भी देशी घी का उपयोग किया जाता है। 
  10. देशी घी को दाल में मिलाकर भी रोजाना खा सकते हैं, इसका सेवन सेहत के लिए बहुत उपयोगी होता है। 

घी के नुकसान :

अभी तक आपने घी के फायदों एवं उपयोग के बारे में तमाम बातें जान ली है। तो अब आप इससे होने वाले कुछ नुकसान के बारे में जानेंगे। हर चीज में कुछ खूबियां और खामिया होती है और अगर घी की बात करें तो जहाँ इसके अनगिनत फायदे है वही इसके कुछ नुकसान भी हैं जो इस प्रकार से है-

किसी भी खाद पदार्थ को एक सीमित मात्रा में लेना चाहिए, वो अक्सर अपना नकारात्मक पहलू तब दिखाती है जब हम उसका इस्तेमाल ज़रूरत से ज्यादा करते हैं। इसलिए ध्यान रहे की आवश्यकता से अधिक किसी पदार्थ का प्रयोग न करें अन्यथा ये आपके लिए परेशानी का सबब बन जायेगी। 

  1. गर्मियों में घी के अधिक सेवन से बचना चाहिए क्योंकि ये गर्म होती है, और गर्मी के मौसम में इसका अधिक सेवन स्वातस्थ के लिए हानिकारक हो सकती है। 
  2. घी में विटामिन ए की मात्रा अधिक होती है और अधिक विटामिन ए सिरदर्द, भूख में कमी और उल्टी का कारण बन जाता है। इसलिए एक सीमित मात्रा मे ही इसका सेवन करें। 
  3. घी और शहद के मिश्रण से बनी किसी भी खाद पदार्थ का सेवन भूल से भी न करे, अन्यथा आपको इसके नकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। 
  4. घी का अधिक सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ाता है एवं अधिक कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग की उत्पति करता है। और जिनको पहले से हृदय रोग की समस्या है उनके लिए तो ये बहुत नुकसानदेह है। इसलिए घी का उपयोग एक सामान्य मात्रा में करना चाहिए। 

निष्कर्ष :

आज आपने इस आर्टिकल को पढ़कर ये जाना की घी किस प्रकार से हमारे स्वास्थ्य पर नकारात्मक व सकारात्मक प्रभाव डालता है। इसलिए अगर आपको इसके फायदे चाहिए तो इसे एक सीमित मात्रा में ही खाध पदार्थों में मिलाये, अन्यथा इसका ज्यादा सेवन स्वस्थ व्यक्ति के शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। 

और इससे आपको ही परेशानी का सामना करना पड़ेगा, क्योंकि कोई भी चीज जब आवश्यता से अधिक हो जाती है तो वो खतरे के सामान होती है। हमे उम्मीद है की ये जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी और आपको हमारा ये आर्टिकल बेहद पसन्द आया होगा।

Leave a Comment