घी कॉफ़ी के फायदे जानकर हो जायेंगे हैरान…. जानें ये क्या है और कैसे बना सकते हैं

Rate this post

घी कॉफी आजकल काफी ट्रेंड में है आपने भी बहुत सारे सिलेब्रिटीज को कहते हुए सुना होगा कि वह घी कॉफी लेना पसंद करते हैं। चलिए आज समझते हैं कि ही काफी क्या है इसके फायदे क्या है और इसको कैसे बना सकते हैं।

घी कॉफी जैसा के नाम से ही पता चल रहा है घी और कॉफी को मिलाकर के बनता है। इसमें घी और कॉफी पाउडर को मिक्स करके गर्म पानी में मिलाकर पिया जाता है। यह एक डाइट काफी है जो कि अभी भारत में काफी प्रचलन में है। इसे कीटो कॉफी या बुलेट प्रूफ कॉफी भी कहा जाता है। तो चलिए इसके फायदे के बारे में जानते हैं।

घी कॉफी के फायदे

भारत में घी हजारों वर्षों से प्रयोग में लाया जा रहा है। अब पश्चिमी देशों में भी लोगों ने बटर को छोड़कर घी को अपना लिया है। क्योंकि यह अब वैज्ञानिक रूप से भी प्रमाणित हो गया है कि घी बटर से काफी ज्यादा लाभदायक होता है। घी में बहुत सारे पोषक तत्व और विटामिन जैसे विटामिन ए विटामिन ई विटामिन के ओमेगा 3 इत्यादि होते हैं जो कि हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक होते हैं।

वहीं दूसरी तरफ कॉफी एक एनर्जी बूस्टर की तरह काम करता है क्योंकि कॉफी में कैफीन की भरपूर मात्रा होती है। इसे अक्सर आलस्य भगाने के लिए लोग पीते हैं। तो यदि घी और कॉफी को मिला दिया जाए तो एक ऐसा मिक्स हमारे पास होगा जो हमें दिन भर की जरूर की ऊर्जा प्रदान करने में सक्षम होगा। पर ऐसा भी नहीं है कि आपको घी कॉफ़ी पीने के बाद खाना खाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। 

हालांकि ऐसा नहीं है की घी और कॉफी को साथ में लेंगे तभी आपको बेनिफिट मिलेगा आप चाहे तो भी को दाल के साथ और कॉफी को रेगुलर कॉफ़ी की तरह ले सकते हैं।

ऐसा दावा किया जाता है कि घी कॉफी आपके पाचन तंत्र को भी मजबूत करता है। खाली पेट में सिर्फ कॉफी लेने से एसिडिटी बनती है लेकिन डाइटिशियन का दावा है कि यदि घी कॉफी लिया जाए यानि कि घी को काफी में मिलाकर लिया जाए तो एसिडिटी की संभावना कम हो जाती है। आयुर्वेद में भी घी को क्षारीय पदार्थ माना गया है जो कि अम्ल नाशक है।

घी कॉफ़ी के मुख्य फायदे:

  1. घी कॉफ़ी से आप दिन भर ऊर्जावान महसूस करते हैं। 
  2. चूँकि घी एक कब्ज नाशक है तो इसे लेने से आपकी पाचन में भी सुधार हो सकता है। 
  3. घी को कॉफ़ी में मिला देने से एसिडिटी की समस्या कम हो जाती है। 
  4. घी कॉफ़ी मोटापा और वजन कम करने में भी मदद करता है। 
  5. इसमें दूध नहीं डाला जाता है इसलिए Lactose intolerant भी घी कॉफ़ी का सेवन कर सकते हैं। 

घी कॉफ़ी पीने को लेकर कुछ सावधानियाँ

हर चीज़ के कुछ फायदे होते हैं तो कुछ नुकसान। अति हमेशा बुरा होता है तो घी-कॉफ़ी को अपने डाइट में शामिल करने से पहले इन बातों का जरूर ध्यान रखें। 

  1. आप घी कॉफ़ी दिन में एक बार ही लें और यदि जरुरत पड़े तो अधिकतम 2 बार। ऐसा इसलिए क्योंकि कॉफ़ी में कैफीन की मात्रा  बहुत होती है और कैफीन नींद भगाने के लिए प्रचलित है। ऐसे में यदि आप ज्यादा घी कॉफ़ी लेंगे तो आपकी रात की नींद भी ख़राब हो सकती है। 
  2. रात में घी-कॉफ़ी लेने से बचें। 
  3. कॉफ़ी एनर्जी बूस्टर होता है और यदि आपने कभी गौर किया हो तो कॉफ़ी लेने के बाद रक्त प्रवाह कृत्रिम रूप से बढ़ जाता है। ऐसे में यदि आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो आप घी कॉफ़ी लेने से बचें। 
  4. यदि आप गर्भवती हैं तो घी-कॉफ़ी को अपने डाइट में शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से अवश्य सलाह ले लें। 
  5. घी-कॉफ़ी में घी एक महत्वपूर्ण तत्व है और अच्छा होगा यदि आप कोई भरोसेमंद सेलर से ही घी लें या फिर घर पर ही पारम्परिक तरीके से घी बनाएं। 

घर पर घी कॉफी बनाने का तरीका

घी कॉफी बनाना बहुत ही आसान है। क्योंकि यह एक डाइट काफी है तो इसमें ना तो दूध जाएगा और ना ही चीनी। यानी की घी काफी मात्र तीन चीजों से मिलकर बनता है, और वह तीन चीज हैं घी, कॉफी पाउडर और गर्म पानी। अब यह आपके ऊपर है कि आप पहले घी और कॉफी को मिलते हैं या पानी और घी को या फिर कॉफी और पानी को, बात इतनी सी है की तीनों को मिलाना है और आपकी घी काफी हो बनकर तैयार हो जाएगी। यदि आपको नहीं समझ आया हो तो नीचे बिंदुवार तरीके से बता देते हैं। 

  1. एक कप पानी को अच्छे से गर्म करें।
  2. उसमें आवश्यकता अनुसार कॉफ़ी पाउडर मिलाएं (ध्यान रखें की कॉफ़ी-पाउडर प्रीमिक्स न हो)
  3. अंत में एक चौथाई चम्मच उसमें घी डालकर अच्छे से मिला लें, हो गयी आपकी घी कॉफ़ी तैयार।