कई बीमारियों में रामबाण की तरह कार्य करती है ग्वार फली, ग्वार फली के फायदे उपयोग एवं नुकसान। Benefits, Uses and Side-Effects Of Cluster Beans

ग्वार फली एक हिंदी शब्द है जिससे शायद कम लोग ही वाक़िफ़ होंगे क्योंकि ज्यादतर लोग ग्वार फली को बिंस के नाम से जानते है जिसका पूरा नाम क्लस्टर बीन्स है। ये सब्ज़ी हरे रंग की होती है जिसका साइंटिफिक नाम सोफोकार्पस टेट्रागोनोलोबस (Cyamopsis Tetragonolobus) है। ग्वार फली में कई ऐसे पोषक तत्व शामिल होते हैं जो एक स्वस्थ शरीर के लिए बहुत उपयोगी माने जाते हैं। 

इसे उगाने की शुरुआत भारत से ही हुई थी , आज इसकी खेती कई अन्य देशों में भी की जाती है और लोगों द्वारा इसे बड़े चाव से खाया जाता है। हालांकि इसका स्वाद बहुत सामान्य हरी सब्ज़ी की तरह ही होता है लेकिन इसमें पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व बहुत गुणकारी होती है। इसकी खेती गर्म क्षेत्र में ज्यादा होती है और मध्य एवं आंध्र प्रदेश जैसे राज्य ग्वार फली उगाने के लिए मशहूर है। 

ग्वार फली में कई औषधि गुणों की मौजूदगी होती है जो आयुर्वेद में काम आती है। तो ये किस प्रकार से काम आती है इससे कौन कौन से अन्य फायदे होते हैं और इसका उपयोग कैसे किया जाता है और साथ ही इसे ठीक ढंग से न लेने से क्या नुकसान हो सकते है। आज के हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से हम इन सभी बातों को जानेंगे। तो चलिए शुरू करते है। –

ग्वार फली के फायदे –

हरि सब्ज़ियाँ स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होती है और इन्ही हरि सब्ज़ियों में से एक नाम ग्वार फली का भी शामिल है जो एक फायदेमंद हरि सब्ज़ी है, जिसके फायदे निम्नलिखित हैं-

1) रक्त संचार में वृद्धि –

Blood_Circulation

ग्वार फली में आयरन की भरपूर मात्रा पाई जाती है जो रक्त में हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में मदद करता है और इससे रक्त परिसंचरण बेहतर होता है, रक्त संचार में वृद्धि के लिए ग्वार फली का सेवन काफी उपयोगी सिद्ध होता है। 

2) कोलेस्ट्राल नियंत्रित करता है। –

cholesterol

शरीर में कालेस्ट्रोल की मात्रा को नियंत्रित करने में फाइबर की आवश्यता होती है और ग्वार फली फाइबर के गुणों से भरपूर होता है और इसमें फाइबर के साथ फोलेट, और पोटेशियम जैसे पोषक का भी मौजूद होते हैं हृदय के मरीज़ के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। 

3) हड्डियों की मजबूती के लिए –

Bones

एक स्वस्थ शरीर के लिए उसके हड्डियों का मजबूत होना बहुत ज़रूरी हो जाता है पर आजकल हड्डियों की समस्या से बहुत से लोग ग्रसित है ऐसे में खान पान पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। ग्वार फली एक ऐसी फायदेमंद सब्ज़ी है जिसके सेवन से हड्डिया मजबूत रहती है, क्योंकि इसमें फॉस्फोरस और कैल्शियम जैसे गुणकारी तत्वों की भरमार होती है जो मजबूत हड्डियों के लिए दवा के समान होती हैं। 

4) डायबिटीज के मरीजों के लिए –

Suger Level

डायबीटीज़ के रोगियों को शुगर से बने खाद पदार्थों से बहुत बचना पड़ता है या यूँ कहे तो उन को इसका सेवन ही नही करना चाहिए। इनको ऐसे खाद पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो उनका शुगर लेवल कम करे और उनके लिए फायदेमंद हो। ग्वार फली एक ऐसी ही हरि सब्ज़ी है जो डायबिटीज के मरीजों को खानी चाहिए। इसमें टैनिन और फ्लेवोनोइड्स जैसे गुण होते हैं जो आपकी बॉडी से शुगर को नियंत्रित करते हैं। तो डायबिटीज के मरीज के लिए प्रतिदिन ग्वार फली के सेवन बहुत लाभकारी हो सकता है। 

5) गर्भवती महिलाओं के लिए है बहुत फायदेमंद है। –

pregnancy

प्रकृति से उत्पन्न हर एक चीज का अपना एक अलग महत्व होता है और इस पर कोई संदेह नही किया जा सकता की वह उपयोगी नही है। फल और सब्ज़ियाँ प्रकृति की ही देन है जो मानव के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होती है। ग्वार फली एक हरि सब्ज़ी है जो गर्भावस्था के दौरान महिलाएं खा सकती है। 

इसमें फोलिक एसिड एक अच्छी मात्रा में पाई जाती है और इसमें मिनरल व कई विटामिन शामिल होते हैं जो जो भ्रूण के विकास के लिए बहुत लाभकारी माना जाता है। ऐसे में एक गतभवती महिला के लिए ग्वार फली की सब्ज़ी का सेवन एक अच्छा विकल्प हो सकता है। 

6) मस्तिष्क विकास के लिए –

Brain

मस्तिष्क हमारे शरीर का अहम हिस्सा माना जाता है जिसका विकास में खान पान का बहुत महत्व होता है। अच्छे खाद पदार्थों से एक स्वस्थ मस्तिष्क का निर्माण होता है। हम किस प्रकार का भोजन खाते पीते हैं ये बात काफी हद तक इसपर निर्भर करती है की हमारा शारीरिक एवं मानसिक  विकास कैसा होगा। एक स्वस्थ मस्तिष्क के लिए ग्वार फली बहुत फायदेमंद हो सकता है। एक रिसर्च के अनुसार ग्वार फली हिमोग्लॉबिन की संख्या को स्थिर रखता है और दिमाग को शांत रखने में भी ग्वार फली महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

7) एनिमिया में फ़ायदेमंद –

animia

एनिमिया होने की स्थिति में भी ग्वार फली के फायदे देखे जा सकते हैं। एनिमिया होने का मुख्य कारण शरीर में आयरन की कमी मानी गई है और ग्वार फली में फ़ाइटोकेमिकल्स नामक तत्व मौजूद होता है जो आयरन की कमी को पूरा करने में बहुत सहायक होता है। इसलिए एनिमिया से ग्रस्त व्यक्ति को ग्वार फली को अपने आहार मई सम्मलित करना चाहिए इसके सकारात्मक परिणाम बहुत कम समय में ही देखे जा सकते हैं। 

9) बीपी नियंत्रण में सहायक –

Blood Pressure

ग्वार फली के फायदे बीपी के मरीजों के लिए भी देखे जा सकते हैं। दरसल, ये सब्ज़ी हाई बीपी से परेशान लोगों की समस्या को दूर करती है। इसमें हाइपोग्लाइसेमिक और हाइपोलाइपिडेमिक जैसे गुण शामिल होते हैं बीपी को नियंत्रित करने में सयाहक माने जाते हैं। तो अगर आपको भी बीपी की समस्या है तो ग्वार फली को अपने भोजन में शामिल करके इसके फायदे देख सकते हैं। 

ग्वार फली के उपयोग –

अब तक आपने ग्वार फली से होने वाले फायदों को तो अच्छे से जान लिया होगा और अब आपके ज़हन में ये सवाल आ रहा होगा की ग्वार फली को तो एक सब्ज़ी के रूप में खाया जा सकता है पर इसे और किन किन खाद पदार्थों में उपयोग में लाया जा सकता है। तो इसी सवाल का जवाब जानने के लिए इस आर्टिकल को पढ़ना जारी रखे। 

ग्वार फली के उपयोग कुछ इस प्रकार है। –

  1. ग्वार फली को बेसन में लपेटकर फीर इसे तल कर इसका सेवन पकोड़ों के रूप में भी किया जा सकता, ये सेहत के लिए अच्छा माना जाता है।
  2. ग्वार फली का पाउडर भी आता है जिसे आइसक्रीम बनाने में उपयोग मे लाया जाता है।
  3. इस फली को कढी बनाने के लिए लिए भी उपयोग में लाया जाता है।
  4. ग्वार फली सब्ज़ी के रूप में एक औषधि का काम भी करती है इसलिए इसे साधारण पानी में उबालकर काढ़े के रूप में पीने में भी इस्तेमाल किया जाता है।
  5. इसकी फली को सलाद में भी उपयोग किया जाता है।
  6. ग्वार फली एक हरि सब्ज़ी होती है जिसमें कई पोषक तत्व शामिल होते हैं तो इसकी सब्ज़ी बना कर भी सेवन किया जा सकता है।
  7. ग्वार फली के पाउडर का प्रयोग कई खाद पदार्थ में किया जाता है।
  8. जैम बनाने में भी गवार फली का पाउडर अच्छा माना जाता है।
  9. ग्वार फली के पाउडर का का उपयोग ब्रेड बनाने मे किया जा सकता है।

ग्वार फली के नुकसान –

ग्वार फली को अपने आहार में शामिल करने से तमाम फायदे मिलते है क्योंकि ग्वार फली एक हरि सब्ज़ी के रूप में आती है। इसलिए इसमें प्रोटीन और मिनरल की मात्रा पर्याप्त होती है जो स्वास्थ्य को अच्छा रखता है। लेकिन हर वो चीज जो हमे फायदा पहुँचाती है कही न कही उसके कुछ हानिकारक दुष्प्रभाव भी होते हैं जो हमारी सेहत को प्रभावित कर सकते हैं इसलिए इसके नकारात्मक पहलू यानी की इसके नुकसान से भी आपको ज़रूर वाक़िफ़ होना चाहिए। तो आइये जानते है की ग्वार फली के सेवन से क्या क्या नुकसान हो सकते हैं। 

  1. ग्वार फली में फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है और अधिक फाइबर गैस, सूजन और पेट दर्द का मुख्य कारण बन सकती है इस्लिए अगर आपको ये सब समस्या अक्सर होती रहती है तो इसके सेवन से आपको बचना चाहिए।
  2. अगर आपको जल्दी किसी भी पदार्थ से एलर्जी हो जाती है तो ग्वार फली से भी हो सकती है इसलिए अगर ऐसा कुछ होता है तो इसका सेवन भूल से भी न करें। 
  3. अधिक मात्रा में ग्वार फली का सेवन करने से आपको गैस्ट्रिक की भी समस्या हो सकती है जो घातक है।
  4. ग्वार फली खाने से कुछ लोगों को मिचली जैसा भी लग सकता है।
  5. जिन लोगों को दस्त की समस्या है उनके लिए ग्वार फली नुकसानदेह हो सकता है।

इस प्रकार कहा जा सकता है की ग्वार फली का सेवन यदि अधिक मात्रा में किया जाता है तो ये हमारे लिए कई समस्या खड़ी कर देता है। इसलिए इन समस्याओं से बचने के लिए ग्वार फली को एक सीमा में ही खाये।

निष्कर्ष –

आज के हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से आपने क्लस्टर बीन यानी की ग्वार फली के बारे में विस्तार से जाना क्योंकि कुछ लोगों के लिए ये एक नई सब्ज़ी की तरह हो सकती है या फिर वो इसके नाम से अंजान हो सकते हैं। अगर ऐसा है तो इस लेख में आपको ग्वार फली के बारे में विस्तार से जानने को मिल होगा जो आपके लिए लाभकारी होगा। हमे उम्मीद है की ये आर्टिकल आपको पसन्द आया होगा ऐसे ही अन्य जानकारी हासिल करने के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ।

Leave a Comment